कहानी

*एक बार फिर*

मौसम की ठंडी फुहार और क्यारी में खिले पीले फूल आज फिर मन के दरीचों से अतीत की स्मृति ताज़ा करने पर आमादा हो गए हैं। गोधूलि की बेला में फिर कोई पागल बादल झूमकर बरसने को आतुर है। बदली की ओट में छुपा चाँद एक बार फिर कॉलेज के दिनों की याद दिला रहा है। बरसों बीत गए शशांक से मिले पर आज भी यूँ लगता है जैसे वो इन पीले फूलों के बीच मेरे आस-पास मौज़ूद है।

कॉलेज में फ्रेशर्स पार्टी चल रही थी। आज की शाम पूरे जोश, उमंग व उल्लास से भरी थी।उत्साह अपने चरम पर पहुँच गया था। उत्सव अपने अंतिम पड़ाव पर था। विजेता का नाम घोषित करने हेतु उद्घोषक अंकित हाथ में लिफ़ाफा दिखाते हुए कह रहा था-

“आज का ये दिन फिर नहीं होगा
सुहावना ये पल भी फिर नहीं होगा
फ्रैशर्स पार्टियाँ तो बहुत होंगी यहाँ
पर मुझ जैसा कद्रदान फिर नहीं होगा।”

दिल थामकर बैठिए जनाब, विजेता की किस्मत मेरे हाथ के लिफ़ाफे में कैद है जिसे मैं खोलने आ गया हूँ। तो आज की मिस फ्रैशर हैं ….नील गगन की नील परी ,नीली-नीली आँखों वाली मिस ‘नीलोफर’।
अपना नाम सुनकर मैं पास खड़ी विदुषी को पकड़ कर चिपट गई। इस हंसीन शाम की विलक्षण अनुभूति मेरे लिए असहनीय हो गई। मैं खुशी के मारे फूट-फूटकर रोने लगी। मंच पर ताजपोशी के साथ ही साथ मुझे सम्मानित भी किया गया। पूरा हॉल करतल ध्वनि से गूँज उठा। सामने खड़े शशांक की अंत तक बजने वाली तीन ताली और वाओ की स्नेहिल, उत्कंठित ध्वनि ने सहसा मेरा ध्यान अपनी ओर आकृष्ट कर लिया। मैं सब कुछ भूलकर उसकी खुशी के इज़हार में तन्मयता से डूबकर मुस्कुराने लगी। कैसा अद्भुत पल था ये, जब एक साधारण सी लड़की महफिल की शान बनकर हर दिल अजीज़ हो गई थी। शशांक की आकर्षक छवि व मोहिनी सूरत कब मेरे दिल में समा गई…कुछ पता नहीं चला। वो मुझसे एक साल सीनियर था।इसलिए अक्सर हमारी मुलाकात कैंटीन में हुआ करती थी। मेरी मृगनयनी आँखों में अपनत्व से झाँक कर शायराना अंदाज़ में जब वो कहता-
“आँखें साक़ी की जब से देखी हैं हमसे दो घूँट पी नहीं जाती “
तो नज़रों से छू लेने वाला उसका मीठा अहसास मेरे दिल के तारों को झंकृत कर देता और मैं नाराज़गी ज़ाहिर किए बिना लजाकर मुस्कुरा देती। मुलाकात का ये सिलसिला चलता रहा।
कॉलेज के दिनों में जूही के पीले फूलों की बेल के नीचे देर तक बैठे प्यार के सपने सँजोते, गुनगुनाते हुए हमने न जाने कितने पल एक साथ गुज़ारे थे। क्लास बंक करके फिल्म देखने जाना ,मुच्छड़ के गोल-गप्पे खाना, प्यार की अनुभूति में सराबोर हाथों में हाथ लिए दूर तक निकल जाना, बादलों की ओट में छुपे चाँद को देखकर शशांक का मुझे बाहों में भरना और मेरे शरमाने पर ये गुनगुनाना-
“चाँद छुपा बादल में शरमा के मेरी जाना
सीने से लग जा तू बल खाके मेरी जाना
गुमसुम सा है, गुपचुप सा है, मदहोश है, ख़ामोश है, ये समाँ, हाँ ये समाँ कुछ और है।”
बारिश में भीगने से बचने के लिए मेरी चुन्नी में फिर मुँह छिपाना जैसे रोज़ की दिनचर्या बन गए थे।

देखते-देखते दो साल पलक झपकते निकल गए। शशांक बी.सी.ए.क्वालीफाइड करके बैंगलोर चला गया और सालभर बाद पापा के न रहने पर मैंने कई कंपनीज़ में नौकरी के लिए एप्लाई किया। हैदराबाद में जॉब लगने पर दिल की हसरतों को यादों में कैद किए, मैं माँ को लेकर यहाँ चली आई। यौवन की दहलीज़ पर खड़े हुए, मन के सूने आँगन में,अतीत के पहले सावन को गुनगुनाती हुई मैं, आज एक बार फिर तुम्हें इन पीले फूलों में महसूस कर रही हूँ।

डॉ. रजनी अग्रवाल ‘वाग्देवी रत्ना’
महमूरगंज, वाराणसी (उ. प्र.)
संपादिका-साहित्य धरोहर

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like 1 Comment 0
Views 4

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing