Skip to content

**** कहानी माँ की ****

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

कविता

January 10, 2017

***^^^^^^^***
माँ तो केवल माँ होती है
कभी धूप तो कभी छाँव
कभी कठोर तो कभी नम
खुद तपती धूप को सहकर
हमें आँचल में छुपाती है
आप गीले में सोकर हमें
शीत कहर से बचाती है
खुद जिंदगी का जहर पीके
हमे अपना अमृत पिलाती है
पता नहीं माँ खुद मरमर के
हमें कैसे जिलाती है ।
हम भूल जाते हैं जब खुद
अपने कदमों पे चलते हैं
कलेजा माँ का जलता
हम चैन से सोते है ।
कभी लिपटे रहते थे
माँ के आँचल से ….आज
बीबी के आगोश में सोते हैं
बांटते है माँ की ममता को
खुद गैर होकर रहते हैं ।
ज़रा याद करलो उसको जो
कभी मैला धोती थी तुम्हारा
बस इतनी थी माँ की……..
पुरानी कहानी …….
अब सुनों …आधुनिक माँ
की कहानी……मेरी जुबानी
आजकल माँ बनना फैशन
बन गया लगता है क्योंकि
विवाह होते ही दुल्हन को
टेंशन होने लगती है कहीं
मै जल्दी माँ न बन जाऊं
इसी फेर में जाने अनजाने
वो कितनी ……अजन्मी
हत्याऐं कर देती है धीरे-2
अभ्यस्त होती जाती है
ममता मरी जाती है और
वो जन्म देने के बाद भी
माँ नहीं बन पाती है…
…………इसीलिए
दस दिन पहले जन्मे बच्चे
को तपती धूप में विथ मनी
सड़क पर अकेला छोड़ जाती है
और उम्मीद करती है किसी ओर
से कि किसी की ममता जगे और
वह उसे अपने घर की रौनक बना
लें ।।..क्या यह सम्भव है ? …
** ,?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
माँ दुआओं से अपनी बचाती रहे
आज की हासिल ग़ज़ल ******** माँ जो औलाद पर जां लुटाती रहे खुद रहे भूखी सबको खिलाती रहे ?? आज के बच्चे देखें न माँ... Read more
माँ
माँ जनम दिया तुमने हमें , दिखलाया संसार और लुटाया माँ सदा , हम पर अपना प्यार केवल माँ तुम हो वजह,हम जो भी कुछ... Read more
मेरी मां
माँ (1) जननी, माँ, प्रसू,धात्री,वत्सला,सुदर्शना ममतामयी ओस कणों सी निर्मल कोमल जीवन बगिया सरसा गयी आँखों में है नीर तेरे ,माँ त्याग है तेरे आँचल... Read more
दया से हमारा भरो माँ  खज़ाना
दया से हमारा भरो माँ खज़ाना हमें मात अम्बे कभी मत भुलाना कहीं पाप की राह पर चल न दें हम हमें दुर्गुणों से सदा... Read more