Skip to content

कहानी – ‘अहसास’

रामबन्धु वत्स

रामबन्धु वत्स

लघु कथा

February 20, 2017

इस बार नव वर्ष पर वो उमंग कहाँ, उसमे भी बुखार । इसीलिए जब चंदुआ ने चिल्लाता ”दीदी जलेबी, गर्म है ” तो मीनू मैंडम खिड़की बंद कर ली ।
घने कोहरे, कमरे का दरवाजा-खिड़की सब बंद । सो कमरे का अन्धेरा चीरने के लिए मीनू मैंडम ने तीन मोमबत्तियाँ जलायी । बंद खिड़की के बावजूद चन्दुआ की ‘जलेबी जलेबी’ वाली आवाज दो-चार बार फिर आई । अब मैडम उसको यह कैसे समझाये कि इस बार का नया साल हर बार की तरह नही है । पर वो उसको बेवकूफ नही मानती है ,लेकिन हर किसी के लिये हर किसी के संवेदना को समझना आसान थोड़े ही होता है । यही कारण हैं कि राधा बाई के ‘चाय-चाय’ की तरह चन्दुआ के ‘जलेबी-जलेबी’ से वो चीड़ नही रही थी ।
वास्तव में, चन्दुआ से सीखने को बहुत कुछ था । खुद पानी में भींगते हुए छाता पकड़कर डॉo साहब को घर लाता है, अपनी तीन साल की बहन को दिखवाने केलिए । पान की गुमटी चलाने वाला १२ साल के चन्दुआ को टी वी से ही पता चल गया था कि बच्चे के लिए टीके कितने ख़ास होते है । लेकिन न जाने गाँव के कितने BA और MA पिता इसे फालतू मानते हैं , डॉo की नौंटंकी वह भी पैसा वसूल ने के लिए । और तो और, इसकी बहन जब एक साल की थी तो माँ मर गयी, और बाप तो उसके भी तीन महीने पहले, ट्रक से कुचल कर । पूरा गाँव कहता था ‘बेटी मर जायेगी, अनाथ जो हो गयी है ।’ पर चन्दुआ , नाबालिक ही सही पर अपनी बहन के लिए माँ और बाप दोनों बन गया । कौन कहता हैं कि बाप बनने के लिए पुरुष और माँ बनने के लिए स्त्री ही होना काफी हैं । कुछ भी बनने केलिए ”अहसास ” होना चाहिए । रिश्ते ”अहसाह ” से बनते है । ये राकेश बाबू कुछ भी बन पाये । न दोस्त, न पति, न बिजनेस पार्टनर, अरे ऐसे लोग तो अच्छे दुश्मन भी नही बन पाते है ।
राकेश के बारे में मीनू मैडम कुछ और सोच ही पाती तभी दरवाजे पर किसी ने दस्तक देना शुरू कर दिया । दस्तक की आवाज इतनी तेज और लगातार थी की मैडम को यह पता चल गया की सिन्हा साहब आ गए । तीखी आवाज से बचने के लिए मैडम झट से उठी और दरवाजा खोल दी । सिन्हा जी को लगा की वो मेरी अगुआई में मुस्कुरा रही है । पर वास्तव में यह मुस्कुराहट थी या बुखार तेज होने की वजह से कुछ क्षणों के लिए उनके ओंठ थरथराई थी , यह तो वो ही जाने, पर कुर्सी की ओर इशारा कर खुद खिड़की खोलने चली गयी |

Share this:
Author

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you