कहाँ अब वो मौसम पुराना रहा है

कहाँ अब वो मौसम पुराना रहा है
नही तेरा मेरा अब जमाना रहा है
*************************
लग गये पैबन्द से रिश्तों में अब तो
रहा कुछ न बाकी, निभाना रहा है
**************************
कपिल कुमार
02/07/2016

Like Comment 0
Views 26

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share