.
Skip to content

कहते सब नादानी है

कृष्णकांत गुर्जर

कृष्णकांत गुर्जर

गज़ल/गीतिका

February 12, 2017

हम बच्चे है नन्हे नन्हे,हमरी एक कहानी है |
कुछभी करदे हम बचपन मे,कहते सब नादानी है||

माँ बाबा के हम आँगन मै,करते खीचा तानी है|
भाई बहन संग सखा सहेली करते सब शैतानी है||

पढ़ने लिखने शाला जाते,सुन टीचर की वानी है|
अक्षर अक्षर लिख लिखकरके हमने लिखी कहानी है||

हम सब पढते लिखते है तो माँ की वजती ताली है|
दादा दादी हमे प्यार से ,देते सुंदर गाली है||

हम ही बनते वीर सिपाही,हम ही बनते माली है|
डाक्टर बनके दवा करे हम,हम ही बने भिखारी है||

कर्मो का फल मिलता सबको,हम सब ने ये जानी है|
कृष्णा जी ले इस दुनिया मे दो दिन की जिंदगानी है||

Author
कृष्णकांत गुर्जर
संप्रति - शिक्षक संचालक G.v.n.school dungriya G.v.n.school Detpone मुकाम-धनोरा487661 तह़- गाडरवारा जिला-नरसिहपुर (म.प्र.) मो.7805060303
Recommended Posts
मुक्तक
आओ फिर से एक बार नादानी हम करें! नजरों में तिश्नगी की रवानी हम करें! जागी हुई है दिल में चाहत की गुदगुदी, आओ फिर... Read more
*** नादानी में नादानी कर बैठे ***
ग़ज़ल/दिनेश एल० "जैहिंद" नादानी में नादानी कर बैठे | अन्जाने में शैतानी कर बैठे || डूबे हम ऐसे आँखों में उनकी,, मोहब्बत हम तूफानी कर... Read more
हम सब को मिलकर
????हम सब को मिलकर???? हम सब को मिलकर,नया भारत बनाना है सो रहा जो मानव हम में,उसे जगाना है हमजोली,हमराही है हम,चलना है हमें साथ... Read more
चलो चले हम, गाँव चले हम! आओ चले हम, गाँव चले हम! ये झुटी नगरी, छोड़ चले हम! ये झुटे सपने, तोड़ चले हम! चलो... Read more