कसक

महक मीठी सुनहरी रेत की मैं छोड़ आया हूँ
कसक काचर ओ मीठे बेर की मै छोड़ आया हूँ
जहाँ गूंजे कभी मरवण ओ मूमल के मधुर किस्से
धरा मीठे वो मरुधर देश की मै छोड़ आया हूँ
जरा सी चोट लगती है फ़साने याद आते है ,
हमें तो अब भी वो गुजरे जमाने याद आते है !
जरा सा रूठ जाने पर जिन्हें यूँ चोट लगती थी ,
हमीं को ढूंढते अपने सयाने याद आते है !

Like 2 Comment 0
Views 41

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share