कविता · Reading time: 1 minute

कश्मीर

*कुंडलिया*
भारत के दिवि की बहुत, बदल रही तस्वीर।
पाकिस्तानी पी जहर, धधक रहा कश्मीर।
धधक रहा कश्मीर, घिरी जन जन पर आफत।
कर दहशत का अंत, बनेगा दिवि कब भारत।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

29 Views
Like
You may also like:
Loading...