Skip to content

कश्मीर हमारा है

रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'

रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'

कविता

January 10, 2017

सदियों से लहू बहायें हैं
बगिया को खूब सजाये हैं
फैला है आतंक तो क्या
सबको मार भगायें हैं॥

कश्मीर हमारा था पहले भी
हमारा आज रहेगा भी
दूर इसे नहीं कर पायेगा
जोर लगायेगा कितना भी॥

ऐसे कैसे हम जानें देगें
प्राण निछावर कर देगें
दृढ़ संकल्प किये हैं हम
देश से अलग ना होने देगें॥

चिला रहा क्यों पाकिस्तान
कश्मीर मेरा है एक जहान
इसपर आँख दिखायेगा तो
बना देगें तुझे कब्रिस्तान॥

@रमेश कुमार सिंह ‘रुद्र’
कान्हपुर कर्मनाशा कैमूर बिहार

Author
रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'
मैं रमेश कुमार सिंह 'रुद्र' कान्हपुर कर्मनाशा कैमूर बिहार का हूँ मैं शिक्षक के पद पर हाईस्कूल बिहार सरकार मे कार्यरत हूं अभी तक देश के विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं से 18 सम्मान प्राप्त कर चुका हूँ। "साहित्य धरोहर" पत्रिका के... Read more
Recommended Posts
घाटी हमारी है !!!
वो लहराते बाग़ हमारे है खिला गुलशन हमारा है हम सीना तान कहते है सारा कश्मीर हमारा है !! तुम्हारे वँहा कायर बेठे है हमारे... Read more
तिरंगा कश्मीर मे फहरा दे
सिन्धु नदी के तट पे बसा हैं प्यारा सा कश्मीर, भारत देश में भारती माँ की शान हैं कश्मीर, कश्मीर हैं जिगर टुकड़ा कहता मेरा... Read more
यह है नरसिंहगढ़ हमारा
कहलाता मालवा का कश्मीर, पर्वताे पहाड़ाे के बीच बसा शहर, यह है नरसिंहगढ़ हमारा, बारिस में रहता सदा हरा, राजवंशाे की है यह धरा, जलमंदिर... Read more
प्यार अगर तुमको पाना है
प्यार अगर तुमको पाना है तो , गले लगाना सीखो आपसी खींचातानी छोड़ , प्रेम को उगाना सीखो हम सब एक ही खुदा के वंदे,... Read more