कव्वाली :-- तेरी दीवानगी की हद सरहद पार ले आई !!

कव्वाली :– तेरी दीवानगी की हद
अनुज तिवारी “इन्दवार”

एक तरफ बहता है दरिया एक तरफ है गहरी खाई !-५

नहीं मिलती यहाँ राहत ,
यहाँ मसहूर है चाहत ,
नहीं मजबूर ये चाहत ,
हमें मंजूर ये चाहत…….३
चाहत चाहत……
तेरी चाहत की ये लहरें हमे मझधार ले आईं !-३
एक तरफ बहता है दरिया एक तरफ है गहरी खाई ! -५

आया महबूब को लेने
उसे लेकर ही जाऊँगा ,
सितम अब बस भी कर जालिम
नहीं कुछ कर ही जाऊँगा…३
कर जाऊँगा…….
तेरी दीवानगी की हद यूँ सरहद पार ले आई !-३
एक तरफ बहता है दरिया एक तरफ है गहरी खाई !-५

रहमत कर मेरे मौला
मोहलत दे मेरे मौला ,
तेरा बंदा तेरे दर पर
बदल तकदीर दे मौला.-३
मौला मौला…..
तुझे पाने की जिद हमको यहाँ इस पार ले आई ! -३
एक तरफ बहता है दरिया एक तरफ है गहरी खाई ! -५

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 2 Comment 0
Views 545

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share