.
Skip to content

कवी मंच वालो

guru saxena

guru saxena

कविता

July 23, 2017

व्यंग्य विनोद

कवी मंच वालो कवी मंच वालो
यहां मैं जमाऊं वहां तुम जमालो
मदारी के लटके सभी एक जैसे
ये बातों के झटके सभी एक जैसे
वतन प्रेम फटके सभी एक जैसे
कवयित्री से सटके सभी एक जैसे
बचा क्या अभी तक जो कविता बचा लो
कवी मंच वालों कवी मंच वालो।।

तुम्हें पढ़ने लिखने की फुर्सत कहां है
विचारों में सिकने की फुर्सत कहां है
सयानो में टिकने की फुर्सत कहां है
निराला से दिखने की फुर्सत कहां है
यहां का वहां का सभी का सुना लो
कवी मंच वालो कवी मंच वालो।।

नहीं ज्ञान रस का है पेमेंट बढ़िया
नहीं छंद बस का है पेमेंट बढ़िया
अलंकार मस्का है पेमेंट बढ़िया
सभी दूर ठसका है पेमेंट बढ़िया
तुझे मैं बुलाऊं मुझे तुम बुला लो
कवी मंच वालों कवी मंच वालो।।

किशोरों जवानों की धड़कन में धड़को
खुले सेक्स गानों की धड़कन में धड़को
मेरा दिल यहां है तेरा दिल वहां है
सभी जानते दिल धड़कता कहां है
किशोरी किशोरो युवा वर्ग लड़को
जहां मौका पाओ वहां जाके धड़को
मजे मारना है तो मजमा जमालो
कवी मंच वालो कवी मंच वालो।।

कलम के सिपाही अगर सो गए तो
सभी ऐसी सुविधाओं में खो गये तो
ये नेता नई कोंपलें खोंट लेंगे
घुटालों में पूरा वतन घोंट देंगे
कलम को उठा लो दुनाली बना लो
कवी मंच वालो कवी मंच वालो।।

अनुरोध:- महाकवियों से निवेदन है कि यथा स्थान गुरू को लघु और लघु को गुरू मानकर पढ़ें। छंद जांचने का प्रयास न करें।

Author
guru saxena
Recommended Posts
*** इतनी फुर्सत कहां ***
इतनी फुर्सत कहां मिलती है हमको जो तेरा सूरत-ए-हाल लिखें हम माल हमारा है बिके चाहे ना बिके जमाने का हाल क्या लिखें जमाने ने... Read more
*** लघुकथा ***
*** लघुकथा ***" " माहौल देखकर काव्य पाठ करना " राजू में कवित्व के सभी गुण थे | बड़े - बड़े मंच पर अपनी कविताओं... Read more
कोई मुझको भी कविता सिखा दे …….
कोई मुझको भी कविता सिखा दे ……. मै भी बन जाऊं एक कवी अगर कोई मुझको भी कविता सिखा दे । साहित्य विधा से हूँ... Read more
ग़ज़ल
बदहवासी में दरख्तों को गिराने वालो आबे दर्या को यूँ ज़हरीला बनाने वालो कोई हद भी तो मुकर्रर हो हवस की आखिर रोज़ आँखों में... Read more