.
Skip to content

कवि धर्म

Dr. Harimohan Gupt

Dr. Harimohan Gupt

मुक्तक

November 15, 2017

गांधी विश्वामित्र बन, माँग लिया मोती से लाल,
सुख धन,वैभव छोड़ राष्ट्रहित आय जवाहर लाल l
सत्य अहिंसा का आश्रय ले, पंचशील के अनुयायी,
भारत के प्रधान मंत्री रह ऊंचा किया हिद का भाल l

Author
Dr. Harimohan Gupt
डॉ. हरिमोहन गुप्त को मैंने निकट से देखा है l 81 वर्ष की आयु में भी उनमें युवा शक्ति है l अभी भी चार घंटे प्रतिदिन मरीजों को देते हैं और शेष समय साहित्य साधना में l ये जिला जालौन... Read more
Recommended Posts
भारत मां का लाल दुलारा
आज सूर्य एक अस्त हुआ है l दूसरा कल उदित होगा , मन दुखों में है अभी, फिर से यह मन प्रमुदित होगा l धीर... Read more
आंखें
आंखों से गिरा l वह कहां फिर उठा l ऊंची हवेली ll आंखों में पानी l खेत सूख बंजर l मेरी कहानी ll आंखों में... Read more
घोर कलयुग
घोर कलयुग लिया पनाह हैl अच्छाई ही बड़ा गुनाह है l अच्छे बुरे का भेद नहीं, बुराई करके खेद नहीं , अच्छाई दर-दर ठोकरें खाती... Read more
कुछ लघु रचनाएं
अब दुनियां में सम्बन्धों की, इक पहचान लिफ़ाफ़ा है l हर रिश्ते में. हर नाते में, बसती जान लिफ़ाफ़ा है l चाहे बजती शहनाई हो,... Read more