Skip to content

कविता

Neelam Sharma

Neelam Sharma

अन्य

October 28, 2017

किया जाता है दुखी मन को कैसे हल्का?
हाय! हमको भी तरीका वो सिखादे कोई
कोशिशें तो की बहुत हंसने की तूने महफ़िल में
नीलम अंखियां ये फिर न जाने क्यों बहुत रोई।
नीलम शर्मा

Author
Neelam Sharma
Recommended Posts
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more