Reading time: 1 minute

ग़ज़ल

उत्तर प्रदेश के कैराना की हालत को बयान करती एक ग़ज़ल
———————————————-
ग़ज़ल
—–
ज़ुबाँ पर ख़ौफ़ के ताले, दिलों में दर्दे रूखसत है।
बिकी जो मोल मिट्टी के, करोड़ों की विरासत है।

ये कैसे दौर से दो चार है तू, शहरे कैराना;
किसी पर मौत का साया, कहीं लुटने की दहशत है।

बचाकर जानो’ इज़्ज़त भागने की मुश्किलों में हम;
किसी को क्या बतायें, हर जगह ज़ालिम सियासत है।

भिड़ेगा कौन उन बेख़ौफ़ मुजरिम सरगनाओं से;
जिन्हें सत्ता की शह पर, मिल रही भरपूर ताक़त है।

पलायन की शिकायत भी किसी से कर नहीं सकते;
उन्हें ख़ामोश ही रहना है, ऐसी ही हिदायत है।

कई लोगों को तो ये सब, दिखाई ही नहीं देता;
अजब मासूमियत उनकी, ग़ज़ब उनकी नज़ाकत है।

हज़ारों हिन्दुओं की बेबसी पर, ऐसी ख़ामोशी;
भला है कौन कुर्सी पर, भला किसकी हुकूमत है।

कई कश्मीर गुपचुप पल रहे हैं देश के भीतर;
किसे तफ़तीश की फ़ुरसत, किसे इसकी इजाज़त है।

सियासतदान कुछ, इस देश को बरबाद कर देंगे;
कोई माने न माने, पर यही सच्ची हक़ीक़त है।

—-बृज राज किशोर

2 Comments · 26 Views
Copy link to share
Brijraj Kishore
6 Posts · 289 Views
A retired LIC Officer of age 64+. Writing since 50 years. A collection named "एक... View full profile
You may also like: