.
Skip to content

कविता

मंजूषा मन

मंजूषा मन

कविता

March 21, 2017

और दर्द दो

तुम मुझे
और दर्द दो
और ज़ख्म दो
और दो पीड़ा

ये तो तुम्हें लगता है…
कि तुम दर्द दे रहे हो
ज़ख्म दे रहे हो

असल में
हर दर्द के साथ
देते हो मुझे
तुम एक कविता भी…

मंजूषा मन

Author
मंजूषा मन
मैं मंजूषा मन, लेखन ही मेरा जीवन है, मन ने जो महसूसा वह लिख दिया। जीवन के खट्टे मीठे और कड़वे अनुभवों का परिणाम है मेरी कविता, मेरा लेखन।
Recommended Posts
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more