कविता · Reading time: 1 minute

कविता

गंध बाँटते फूलों को काँटो में पलते देखा है ।
अपना अस्तित्व मिटा मेहंदी को रंग छिड़कते देखा है ।

कागज़ की नावों से दरिया पार कराने वालों , हमने
छले गए विश्वासों को इतिहास बदलते देखा है ।।

– चिंतन जैन

1 Like · 30 Views
Like
Author
47 Posts · 1.9k Views
अपनी हार में भी जीता रहूंगा मैं हमेशा एक विजेता रहूंगा ।। Www.Instagram.com/chintan_uphar
You may also like:
Loading...