कविता :-- सब तेरा जयगान करेंगे !!

सब तेरा जयगान करेंगे !!
एक बात जुबानी कहता हूँ मैं ,
हर मसले का हल होगा !
तेरे ही इन हाथों मॆं ,
स्वर्णिम भारत का कल होगा !
एक सुंदर सा
भू-तल होगा ,
हर दिल जब इंसान बनेंगे !
सब तेरा जयगान करेंगे !!

इंसानों की कीमत समझो ,
जातिवाद पर मत उलझो !
कब तक डरना अंधियारे से ,
दीप शिखा बन कर तुम उभारो !
हिम्मत कर
आगे बढ़ता चल ,
तुझसे हर शैतान डरेंगे !
सब तेरा जयगान करेंगे !!

अरमानों का सुंदर घर है ,
तुझमे हुनर और जिगर है !
तेरे सपने पूरा करने को ,
धरती और विस्तृत अम्बर है !
तेरे ही इन
कर कमलों से ,
लोगों के अरमान सजेंगे !
सब तेरा जयगान करेंगे !!

अथक प्रयत्न ये अजदादों का ,
व्यर्थ नहीँ होने देना !
खुद को खोकर भी जन्नत की
तुम सान नहीँ खोने देंना !
झूमेंगा जग
खुशहाली से ,
हर चहरे मुस्कान भरेंगे !
सब तेरा जयगान करेंगे !!

तेरी रंगत रंग लाएगी ,
एक दिन नई घटा छाएगी !
भारत के कोने-कोने में ,
हरपल खुशियाँ लहराएगी !
सब की झोली
भर जाऐगी ,
मेहनत के खलिहान सजेंगे !
सब तेरा जयगान करेंगे !!

अनुज तिवारी “इंदवार “

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like Comment 6
Views 1.7k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing