Skip to content

कविता :– संघर्ष

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कविता

September 5, 2016

कविता :– संघर्ष !!

संघर्ष करो ! संघर्ष करो !
संघर्ष करो ! संघर्ष करो !!

संघर्ष हो जीने का मक़सद ,
संघर्ष बिना क्या जीना है !
पर जो संघर्ष ना कर सके ,
जीने से बेहतर मरना है !
“संघर्ष”शब्द में “हर्ष” छिपा ,
जो खुशहाली लाता है !
संघर्ष ना करने वालों का
मस्तक नीचा हो जाता है !!
आकर के इन राहों में
जीवन में उत्कर्ष भरो !

संघर्ष करो ! संघर्ष करो !
संघर्ष करो ! संघर्ष करो !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
संघर्ष करो संघर्ष करो संघर्ष हमारा नारा हो। जीवन पथ पर बढे चलो यह जीवन सबसे न्यारा हो। लिया जनम धरा पे जिसने वही आंख... Read more
संघर्ष एक इतिहास
जुल्म_ए_खाकी या जुल्म_ए_खादी अधिकार के संघर्ष का तो इतिहास रहा है, किसी ने समर्पण किया है,तो कोई भक्त रहा है मुझे याद है पुरुषर्थ पोरस... Read more
जीवन एक संघर्ष
कई जीत बाकी है कई हार बाकी है अभी जीवन के सार बाकी है अभी तो निकले ही घर से लक्ष्य को पाने को ये... Read more
कविता:??मोहब्बत की बात??
दिल की बात सबको,बताया न करो। कुछ राज सुनलो तुम,छिपाया भी करो।। ज़माना बुरा है बहुत,बातों को हवा दे। हर किसी से मिलके,मुस्क़राया न करो।।... Read more