Skip to content

कविता :– शायर ! सुर छेड़ दिये ……दिल वालों की महफिल में !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कविता

July 28, 2016

शायर ! सुर छेड़ दिये …….दिल वालों की महफिल में !!

सुर छेड़ दिये हमने अपने ,
जो धधक रहे थे इस दिल मे !
कातिल मुखड़ो से भरी हुई ,
दिल वालों की उस महफिल मे !!

एक शायर इस पार खड़ा ,
एक शायर उस पार खड़ा !
शायर ने जब शेर किये ,
शब्दो को चकनाचूर किये !!

सुर से सुर की सौगात हुई ,
फिर धुआंधार बरसात हुई !
घायल हो हो कर प्राण चले ,
जब वाणी से तीर कमान चले !!

सुर दुल्हन से सजे हुए ,
जज्बातों की एक डोली मे !
रंगे हुए थे हर मुखड़े ,
मुखडों के सुर की होली मे !!

महफिल में चाँद से मुखड़े थे ,
पर मुखड़े उखड़े उखड़े थे !
शायर के हर मुखड़े में ,
भावो के टुकड़े-टुकड़े थे !!

मुखड़ो के कायल मुखड़े भी ,
मुखड़े से घायल मुखड़े भी !
मुखड़े से मुखड़े टकराते ,
मुखड़े के टुकड़े हो जाते !!

मुखड़े के हर मुखड़े नें ,
मुखड़ो को झकझोर दिये !
मुखड़े के जज्बात यहाँ ,
मुखड़े से भाव विभोर हुए !!

मुखड़े की हालत कुछ ऐसी ,
मुखड़े में फर्माया था !
टकटकी लगा हर मुखड़ा ,
मुखड़े पे गौर जमाया था !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
यादों  के झोकें
Raj Vig कविता Mar 11, 2017
यादों के तेरे जब झोकें चले आते हैं सांसों मे तेरी महकों के गुलाब चले आते हैं । ख्वाबों मे गुजरे हुए हसीन वो पल... Read more
महात्मा बुद्ध
????? बुद्ध ने सब दाव पर लगा दिये, कठोर तपस्या पूर्ण जीवन जीये। जिस दिन देखें कि मृत्यु है, जिस दिन देखें कि बुढापा है,... Read more
शायरी
तेरी महफ़िल में आते हैं कुछ तुझ को और कुछ तेरी आदाओं को देख कर चले जाते हैं हम ने तो देखा तेरे दिल का... Read more
साधना कर यों सुरों की, सब कहें क्या सुर मिला
साधना कर यों सुरों की, सब कहें क्या सुर मिला बज उठें सब साज दिल के, आज तू यों गुनगुना हाय! दिलबर चुप न बैठो,... Read more