Jul 28, 2016 · कविता

कविता :-- शायर ! सुर छेड़ दिये ......दिल वालों की महफिल में !!

शायर ! सुर छेड़ दिये …….दिल वालों की महफिल में !!

सुर छेड़ दिये हमने अपने ,
जो धधक रहे थे इस दिल मे !
कातिल मुखड़ो से भरी हुई ,
दिल वालों की उस महफिल मे !!

एक शायर इस पार खड़ा ,
एक शायर उस पार खड़ा !
शायर ने जब शेर किये ,
शब्दो को चकनाचूर किये !!

सुर से सुर की सौगात हुई ,
फिर धुआंधार बरसात हुई !
घायल हो हो कर प्राण चले ,
जब वाणी से तीर कमान चले !!

सुर दुल्हन से सजे हुए ,
जज्बातों की एक डोली मे !
रंगे हुए थे हर मुखड़े ,
मुखडों के सुर की होली मे !!

महफिल में चाँद से मुखड़े थे ,
पर मुखड़े उखड़े उखड़े थे !
शायर के हर मुखड़े में ,
भावो के टुकड़े-टुकड़े थे !!

मुखड़ो के कायल मुखड़े भी ,
मुखड़े से घायल मुखड़े भी !
मुखड़े से मुखड़े टकराते ,
मुखड़े के टुकड़े हो जाते !!

मुखड़े के हर मुखड़े नें ,
मुखड़ो को झकझोर दिये !
मुखड़े के जज्बात यहाँ ,
मुखड़े से भाव विभोर हुए !!

मुखड़े की हालत कुछ ऐसी ,
मुखड़े में फर्माया था !
टकटकी लगा हर मुखड़ा ,
मुखड़े पे गौर जमाया था !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

501 Views
Anuj Tiwari
Anuj Tiwari
Umaria
118 Posts · 52.7k Views
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल ,...
You may also like: