.
Skip to content

कविता – लो आगया मोदी का राम – राज

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

कविता

November 21, 2016

लो आ गया मोदी का राम राज ,
राजा रंक समान हो गये आज ।
निकल आया उनका कालाधन ,
मिट जायेंगे जो न आये थे वाज ।। लो…….
समझे जो इसको थाती थे ,
भ्रष्टों के बने जो संगाती थे ।
उजागर होगा उनका कालाधन ,
भ्रम अर्थव्यवस्था के जो साथी थे ।
दिल में ही रह गया दिल का राज ।। लो……….
500,1000 के बन्द होगये नोट ,
गंजे के सिर पै जैसे गिरा अखरोट ।
लंगूर सब तमाशा देख रहे ,
बन्दर ने जैसे खाई हो चोट ।
निर्भय निःशंक हो रहा समाज ।। लो…………..
सत्ता का मद होगया चकनाचूर ,
इटली की बिल्ली का टूट गया गुरूर ।
मनमोहन तमाशा देखते रहे ,
भले ही ईमानदार रहे जरूर ।
मूक होके जिनके सिर पै था ताज ।। लो………
इससे जनता का हित होगा ,
शुभ परिवर्तन नव नित होगा ।
आयेंगे अच्छे जरूर दिन ,
आतंकवाद के खात्मे के सहित होगा ।
मोदी पर होगा सबको नाज़ ।। लो………….
परिवर्तन की है बयार चली ,
मोदी आज के हैं बजरंगबली ।
लंका का कर देगें नाश ,
निशाचरों में मचा रहे खलवली ।
गरीबों के लिए कर रहे काज ।। लो………….
इससे देश का होगा विकास ,
गरीबों के सुख का फैलेगा प्रकाश ,
चहुँ ओर होगी खुशहाली ,
घनघोर बादल हो जायेंगे साफ ।
नव सम्भावना लेकर आया है आज ।। लो……..
। । डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज ।।

Author
डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज
Assistant professor -:Shanti Niketan (B.Ed.,M.Ed.,BTC) College ,Tehra,Agra मैं बिशेषकर हास्य , व्यंग्य ,हास्य-व्यंग्य,आध्यात्म ,समसामयिक चुनौती भरी समस्याओं आदि पर कवितायें , गीत , गजल, दोहे लघु -कथा , कहानियाँ आदि लिखता हूँ ।
Recommended Posts
??घर से निकलकर देख लो??
तुझे चाहते हैं कितना,दिल में उतरकर देख लो। तेरे दीद की प्यासी आँखें,नज़रभरकर देख लो।। सागर की गहराई का किनारे से अन्दाज़ा नहीं लगता। तमन्ना... Read more
तेवरी। नोट के बदलते तेवर।
तेवरी ।नोट के बदले तेवर ।। राजनीति है झूठ की । आँधी आयी लूट की । महिमा अपरंपार है ।। बदला लो अब ओट का... Read more
मेरे होंठों का लरजना तुम सुन लो
मेरे होंठों का लरजना तुम सुन लो, इस बेताब दिल का धड़कना तुम सुन लो। धधकती साँसों को महसूस तुम कर लो, मचलते जज़्बातो को... Read more
मेरे होंठों का लरजना तुम सुन लो. ..
मेरे होंठों का लरजना तुम सुन लो, इस बेताब दिल का धड़कना तुम सुन लो। धधकती साँसों को महसूस तुम कर लो, मचलते जज़्बातो को... Read more