Jan 8, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

कविता : रिश्ते हैँ कच्चे धागे

रिश्ते कच्चे धागे,मोल न इनका कोय।
समझे तो ज़न्नत,न समझे तो नरक होय।।

सुख-दुख में साथ निभाता सच्चा मीत वही।
बात-बात पर मुँह मोडले निज स्वार्थी होय।।

ऐसे रहिए मिलजुल जैसे ख़ुशबू फूले-चमन।
बिन बू के हरफूल क़ाग़ज़ का फूल होय।।

प्रेम,श्रद्धा,आस्था,आरज़ू से पाक मुहब्बत है।
जिस नारी हृदय ये बसें सदा पतिप्रिय होय।।

ये संसार किराए का घर एकदिन छोड़ जाना।
कर्मों की पूजा होगी बंधु समझ लीजिए तोय।।

पहले तोलो,फिर बोलो मीठी वाणी सुख देती।
कर्कश बाणी कानो में चुभे जो कौवे-सी होय।।

प्रीत का बंधन बांध ले”प्रीतम”गर तू सुख चाहे।
जिस हृदय में है प्रीत बसी गले का हार होय।।

राधेश्याम बंगालिया “प्रीतम” कृत
*********************
*********************

1 Like · 818 Views
#15 Trending Author
आर.एस. 'प्रीतम'
आर.एस. 'प्रीतम'
698 Posts · 60.3k Views
Follow 29 Followers
🌺🥀जीवन-परिचय 🌺🥀 लेखक का नाम - आर.एस.'प्रीतम' जन्म - 15 ज़नवरी,1980 जन्म स्थान - गाँव... View full profile
You may also like: