कविता :-- मौत से हनीमून है !!

मौत से हनीमून

जवानी है जुनून है
चैन है सुकून है ;
ऐ जिन्दगी तू फक्र कर
अब मौत से हनीमून है !!

अभी जरा थाम के रख दिल के इस गुब्बारे को !
धधक रहा तेरे सीने में रोक ना उस अंगारे को !
अपनी चलाता बस चला चल सच की सत्ता हथियाने ,
गर तुझको राज ना आये बदल दे उस गलियारे को !

और जता दे सबको
तेरी रगों मे खून है ;
ऐ जिन्दगी तू फक्र कर ,
अब मौत से हनीमून है !!

अब बना ना तू तमासा मौत आने का !
और भरोसा ना रख कभी लौट आने का !
बस चला चल आगे मन्जिल पास आयेगी ,
पर जरा भी सोच मत खौफ खाने का !!

अभी थोडा सज-सवर ले ,
दुनिया इक सैलून है ;
ऐ जिन्दगी तू फक्र कर ,
अब मौत से हनीमून है !!

कभी ऐसे काम ना कर मौत दामन छोड़ दे !
सहादत की आदत बना सब मौत पर छोड़ दे !
मौत से हनीमून कर फिर तेरी पहचान है ,
सीने से लगा मौत को फिर हर वला आसान है !!
जवानी है जुनून है
चैैन है सुकून है ;
ऐ जिन्दगी तू फक्र कर
अब मौत से हनीमून है !!

Writer—-Anuj Tiwari “Indwar”
Umaria MP

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 475

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share