कविता :-- मौत से हनीमून है !!

मौत से हनीमून

जवानी है जुनून है
चैन है सुकून है ;
ऐ जिन्दगी तू फक्र कर
अब मौत से हनीमून है !!

अभी जरा थाम के रख दिल के इस गुब्बारे को !
धधक रहा तेरे सीने में रोक ना उस अंगारे को !
अपनी चलाता बस चला चल सच की सत्ता हथियाने ,
गर तुझको राज ना आये बदल दे उस गलियारे को !

और जता दे सबको
तेरी रगों मे खून है ;
ऐ जिन्दगी तू फक्र कर ,
अब मौत से हनीमून है !!

अब बना ना तू तमासा मौत आने का !
और भरोसा ना रख कभी लौट आने का !
बस चला चल आगे मन्जिल पास आयेगी ,
पर जरा भी सोच मत खौफ खाने का !!

अभी थोडा सज-सवर ले ,
दुनिया इक सैलून है ;
ऐ जिन्दगी तू फक्र कर ,
अब मौत से हनीमून है !!

कभी ऐसे काम ना कर मौत दामन छोड़ दे !
सहादत की आदत बना सब मौत पर छोड़ दे !
मौत से हनीमून कर फिर तेरी पहचान है ,
सीने से लगा मौत को फिर हर वला आसान है !!
जवानी है जुनून है
चैैन है सुकून है ;
ऐ जिन्दगी तू फक्र कर
अब मौत से हनीमून है !!

Writer—-Anuj Tiwari “Indwar”
Umaria MP

Like Comment 0
Views 472

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing