.
Skip to content

कविता :– मौत से हनीमून है !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कविता

July 29, 2016

मौत से हनीमून

जवानी है जुनून है
चैन है सुकून है ;
ऐ जिन्दगी तू फक्र कर
अब मौत से हनीमून है !!

अभी जरा थाम के रख दिल के इस गुब्बारे को !
धधक रहा तेरे सीने में रोक ना उस अंगारे को !
अपनी चलाता बस चला चल सच की सत्ता हथियाने ,
गर तुझको राज ना आये बदल दे उस गलियारे को !

और जता दे सबको
तेरी रगों मे खून है ;
ऐ जिन्दगी तू फक्र कर ,
अब मौत से हनीमून है !!

अब बना ना तू तमासा मौत आने का !
और भरोसा ना रख कभी लौट आने का !
बस चला चल आगे मन्जिल पास आयेगी ,
पर जरा भी सोच मत खौफ खाने का !!

अभी थोडा सज-सवर ले ,
दुनिया इक सैलून है ;
ऐ जिन्दगी तू फक्र कर ,
अब मौत से हनीमून है !!

कभी ऐसे काम ना कर मौत दामन छोड़ दे !
सहादत की आदत बना सब मौत पर छोड़ दे !
मौत से हनीमून कर फिर तेरी पहचान है ,
सीने से लगा मौत को फिर हर वला आसान है !!
जवानी है जुनून है
चैैन है सुकून है ;
ऐ जिन्दगी तू फक्र कर
अब मौत से हनीमून है !!

Writer—-Anuj Tiwari “Indwar”
Umaria MP

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
‘पूछ न कबिरा जग का हाल’  [ लम्बी तेवरी , तेवर-शतक ]   +रमेशराज
खुशी न लेती आज उछाल इस जीवन से अच्छी मौत भइया रे। 1 पूछ न मुझसे मेरा हाल मुझको किश्तों में दी मौत भइया रे।... Read more
एहसान मौत के,,,,,,,,,
मत दोष दे तू वक्त को , कभी - कभी किस्मत भी दगा करती है । आँखें सो जाया करती है पर , रूह जगा... Read more
चलती जायेगी क्या उम्र भर ज़िन्दगी
चलती जायेगी क्या उम्र भर ज़िन्दगी और कितना करेगी सफ़र ज़िन्दगी : मौत सय्याद है फाँस लेगी तुझे भूल कर भी न जाना उधर ज़िन्दगी... Read more
ऐ ज़िन्दगी मुझे लूट ले , इस वक्त तू कुछ इस कदर । कि बस साँस ही बाकी रहे , धड़कन भी तेरे हिस्से में... Read more