कविता मुश्किल नहीं होती

कविता मुश्किल नहीं होती
ये कभी मुश्किल नहीं होती
.
तुम जाना अपने घर मे
कमरे की उस अलमारी से
जो बाद पड़ी है पहरों से
हाथ डाल के उठा लेना
कुछ फुटकर सिक्के
जिनसे खरीदते थे पतंगे
.
भीड़ से भरे बाजार मे
खड़े होकर उन्हे उछालना
अंखे बंद करके सुनना
मिलेगी तुम्हें उनकी एक धुन
.
शब्द मिलेंगे तुम्हें बाजार से
कुछ घर से, कुछ आकाश से
कल्पनाओ के धागे से
उन्हे सभालकर पिरो देना
.
आँख खोलने पर दोस्त तुम्हें
मिलेगी एक खुशी जीवन की
अब तुम चाहो तो इसे
कह सकते हो कविता ।
.
© — सत्येंद्र कुमार

Like Comment 0
Views 18

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share