31.5k Members 51.8k Posts

कविता- 'मां' मेरी प्रेरणा

मैं एक छोटी सी नन्ही कलि हूं,
अपने जीवन में आगे चली हूं।
उस चांद को छूने की चाह को लेकर,
सितारों के नभ में उड़ी हूं।
मैं एक छोटी सी नन्ही कलि हूं,
अपने जीवन में आगे चली हूं।
मां ने सिखाया है चलाना और पढ़ना,
दिया है मुझे अपने आंचल का
झरना।
उसी से है सीखा खिलके यूं हंसना,
वही तो है मेरी वो ऊंची सी प्रेरणा।
मैं एक छोटी सी नन्ही कलि हूं,
अपने जीवन में आगे चली हूं।

108 Views
डॉ. नीरू मोहन 'वागीश्वरी'
डॉ. नीरू मोहन 'वागीश्वरी'
दिल्ली
176 Posts · 85.7k Views
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र...
You may also like: