कविता (माँ)

माँ तेरा वह लालन पालन, तेरा वह दुलराना ।
थपकी,लोरी,तुतली बोली,आँचल दूध पिलाना ।
याद बहुत आता है सब ,तुझको बहुत सताना ।
माँ तेरा वह लालन पालन, तेरा वह दुलराना ।।

छोटा था तुम छिप जाती थी,रोता था बाहर आती थी ।
छुपा छुपी तुम रोज़ खिलाती,खेल खेल में ख़ूब हँसाती।
मेरा बेटा राजा बेटा , कह कह कर फुसलाना ।
माँ तेरा वह लालन पालन, तेरा वह दुलराना ।।

कहाँ गयी हो जग जीवन से,आ जाओ तुम किसी जतन से।
आँख थकी सी जाती है , हर क्षण याद दिलाती है ।
बड़ा कठिन है बिना तुम्हारे, यह जीवन जी पाना ।
माँ तेरा वह लालन पालन, तेरा वह दुलराना ।।

रीति,प्रीति ये सब झूठी है ,लोभ,मोह लगती मीठी है ।
रिश्ते -नाते बिना तुम्हारे , फीके ही लगते हैं सारे ।
सच में नश्वर जीवन का , होता नहीं ठिकाना ?
माँ तेरा वह लालन पालन, तेरा वह दुलराना ।।

-सत्येन्द्र पटेल’प्रखर’
बिंदकी- फ़तेहपुर उत्तर प्रदेश

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 158

Like 17 Comment 73
Views 1.6k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing