Skip to content

कविता :मज़दूर तेरी अज़ब कहानी

Radhey shyam Pritam

Radhey shyam Pritam

कविता

December 10, 2016

तस्ला उठाए चली जा रही जर्जर काया,
कोयले-सी काली ज्येष्ठ की दोपहरी में।
किसी आवाज़ पर तेज़ होते थके क़दम,
पेट जल रहा,फिर भी कर्मों पर जोर-
जो लिखे हथेली में।
दिन में तन जले,रात को मन,जलना जीवन,
रोम-रोम जलता जले,दुनिया तज कहाँ चले रे।
दिनभर की थकन,तपन बढ़ती है चले रे,
हद हो जाए उस पल,चूल्हे की राख ठण्डी-
पड़ी मिले रे।
बीबी,बच्चे एक कोने में चुपचाप,गुमसुम,
मानो मर गया हो कोई हृदयी रिश्तेदार।
अचानक सुबह की बात स्मृति पटल छायी,
मालिक से पग़ार लाना,माथे हाथ रख रोया-
मज़दूर लाचार।
यूँ पत्थर-सा गिरा झूल गई खटिया कमज़ोर,
हाथ फेर नन्ही बच्ची ने गालों पर चेताया।
कहाँ खो गए बापू? आँखें खोलो,फ़ीक्र न करो,
आज मेरी गुड़िया ने व्रत रखा है,हमने भी-
आपने क्यों भुलाया।

आँखों से स्नेह-गंगा बही,भूल गया भूख सारी।
निन्दिया ने झूला-झुलाया,बीत गई रैन सारी।।

Share this:
Author

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you