.
Skip to content

( कविता ) बचपन की यादें

Geetesh Dubey

Geetesh Dubey

कविता

April 6, 2017

वो बचपन की यादें, बड़ी ही सुहानी
बहुत याद आते वो किस्से कहानी ।

वो गुल्ली, वो डंडा, वो कंचों का खेला
मुहल्ले मे लगता था, बच्चों का मेला
अब यादों मे ही रह गईं वो निशानी
वो बचपन की….

कभी चोर बनते, कभी हम सिपाही
कभी फेंकते एक दूजे पे स्याही
कितनी हसीं तब ये थी जिंदगानी
वो बचपन की…

पतंगें उडा़ना, वो मेले मे जाना
वो बागों से फूलों फलों को चुराना
बहुत लाड़ करते थे नाना ऒर नानी ।।
वो बचपन की..

गीतेश दुबे ” गीत “

Author
Geetesh Dubey
Recommended Posts
कविता: वो बचपन की यादें
आज फिर याद आई मुझे मेरे गाँव की। वो बचपन की यादों की वो पीपल की छांव की।। १.माँ की ममता के आँचल तले, कितने... Read more
बहुत याद आते हैं
~~~बहुत याद आते हैं ~~~ कभी कभी बहुत याद आते हैं वो सुहाने दिन वो अटखेलियां, वो लड़कपन वो मस्ती, वो प्यारे ज़माने बचपन के... Read more
बचपन की यादें ।
sunil nagar गीत Nov 14, 2017
स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री माननीय पं. श्री जवाहर लाल नेहरू ( बाल -दिवस) की हार्दिक शुभकामनाएं । बाल - गीत बचपन मिल जाएं कही... Read more
मुझे वो दिन बहुत याद आते है
Sonu Jain कविता Oct 30, 2017
वो बचपन के दिन ।। वो हँसना खिलखिलाना ।। वो खेल खिलौनो से खेलना ।। वो रोना फिर मनना ।। मुझे वो दिन बहुत याद... Read more