.
Skip to content

कविता :– नोट के बदलते तेवर ॥

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कविता

November 30, 2016

कविता :– नोट के बदलते तेवर ॥

आज हिन्द करवट बदला है !
लोगों का भी मन मचला है !
आज देश में ,
और नोट में ,
साथ हुआ बदलाव ।
नेताओं को आज बता दो ,
बंद करें टकराव ॥

लूट-मार , अब बंद ठगी है !
गद्दारों को चोट लगी है !
आज नोट नें
बदले तेवर ,
उन्हे दिया है घाव ।
नेताओं को आज बता दो ,
बन्द करें टकराव ॥

देश विरोधी दंगे कम है !
खुशियों का प्यारा मौसम है !
गंगाजल संग ,
बहता जमजम ,
बिना किसी अटकाव ।
नेताओं को आज बता दो ,
बन्द करें टकराव ॥

काले धन की लाल कमाई !
नई भोर लेती अंगड़ाई !
गद्दारों की ,
शामत आईं !
बंद हुआ पथराव ॥
नेताओं को आज बता दो ,
बन्द करें टकराव ॥

कवि – अनुज तिवारी “इंदवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
नोट के तेवर—मुक्तक—डी. के. निवातिया
नोट के तेवर क्या बदले, बहुत कुछ बदल गया ! छोड़ काम धाम इंसान लंबी कतार में ढल गया !! कल तक तिजोरी में बंद... Read more
तेवरी। नोट के बदलते तेवर।
तेवरी ।नोट के बदले तेवर ।। राजनीति है झूठ की । आँधी आयी लूट की । महिमा अपरंपार है ।। बदला लो अब ओट का... Read more
जनता को इस देश की     ( दोहा मुक्तक)
जनता को इस देश की,होता यही मलाल! नए नोट लेकर फिरें, फिर से नटवरलाल ! नोट बंद का फैसला,क्या है गलत रमेश, दिल मे उठने... Read more
बंद हो गये नोट
नोट बड़े सब बंद हो गये । हिंदुस्तानी दंग हो गये ॥ मोदी जी देखो दुनिया में । पहली आज पसंद हो गये ॥ आने... Read more