' देख जवानों की कुर्बानी'

देख जवानों की कुर्बानी
आज तिरंगा भी रोया है ।
जाग उठा जनमत भारत का
बीज एकता का बोया है ।
रोष है छाया अब लो बदला
शोर मचा है अब करो हमला ।
भावुक हर दिल हो रहा है
खून के आँसू रो रहा है ।
देश की संसद तुम भी जागो
दल दल के विरोध को त्यागो ।
एकमत होकर आदेश करो
जनमत का सब रोष हरो ।
बार बार यूँ खूनी हमला
जनता सह न पाएगी ,
आखिर कब तक दानवता से मानवता ,
अहिंसा के चोले में मुँह छिपाएगी ?
कितनी बलि दे दीं निर्दोषों की
कितनी और अभी देनी हैं ?
संसद बतला दो अब सेना को
क्या भूमिका उसे निभानी है ।
आदेश करो बदला लेने का
हड़पी भूमि भी अब ले डालो ,
अखंड करो फिर से भारत को
वीरता अपनी सजा डालो ।
देश के जवानों की वीरता
उनका सुंदर गहना है ,
मातृभूमि की रक्षा हेतु ही
उसको उन्होंने पहना है ।
कायरों के हाथों सोते हमले में
व्यर्थ न उसको जाने दो ,
मातृभूमि की रक्षा का सपना
उनका पूरा होने दो ।

डॉ रीता सिंह
एफ 11 फेज़ 6
आया नगर,नई दिल्ली ।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 145

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share