Skip to content

कविता :– तुम फौजी की बीबी हो …..!!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कविता

July 12, 2016

तुम फौजी की बीबी हो…….

तुम्हें नाज होना चाहिये ,
तुम फौजी की बीबी हो !!

सेना मे सरहद पर ,
हमने टकराया तलवारों से !
फौलादी सीना अड़ा दिया ,
गोली की बौछारों पे !!
हँस कर लांघ गये रास्ते ,
जब मौत खड़ी थी सामने !
मौत को भी मात दे दी
कहा आना बाद मे !!

दिल में आग होना चाहिये !
तुम्हें नाज होना चाहिये ,
तुम फैजी की बीबी हो !!

मेरा कौम ये मुल्क मेरा ,
जब-जब कुर्वानी देता है !
तुम तिलक बना सिन्दूर का ,
मेरे माथे पे लगा कर भेजा है !!
चट्टानो सा हौसला ,
तुम हिम्मत भरती सांसों मे !
जन्नत की ये जिन्दगी ,
काटी तुमने वीरानो मे !!

तेरे सर पे ताज होना चाहिये !
तुम्हें नाज होना चाहिये ,
तुम फौजी की बीबी हो !!

लोग अमर हुये धरा मे ,
होठों से अमृत पाने पर !
हम फौजी यहाँ अमर हुये ,
सीने मे गोली खाने पर !!
तुम्हें कसम लेनी होगी ,
तुम आँसू नहीं बहाओगी !
“जय हिन्द ” का नारा देती ,
मेरे मैय्यत पर आओगी !!

आज नही रोना चाहिये !
तुम्हें नाज होना चाहिये !
तुम फौजी की बीबी हो !!

रचनाकार :– अनुज तिवारी

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more