Skip to content

कविता – जलायें दिये पर रहे ध्यान इतना

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

कविता

October 28, 2016

जलायें दिये पर रहे ध्यान इतना ,
हरकोई मिट्टी वाले दीपक जलाये ।
भगाये अंधेरा सम्पूर्ण धरा का ,
मगर दिलों में अंधेरा रहने न पाये ।। जलायें……
खरीदें न सामन एक भी विदेशी ,
समृद्ध करें देश खरीदकर स्वदेशी ।
जिससे मने गरीब की भी दिवाली ,
देश का धन न लेजा पाये परदेशी ।
देश का धन देश के काम आये ।। जलायें ……..
चलायें पटाखे बड़े ध्यान से हम ,
मनायें दिवाली स्वाभिमान से हम ।
मिठाई खील खिलौने सब खूब खायें ,
माँ लक्ष्मी जी को पूजें सम्मान से हम ।
करें कुछ ऐसा खुशियाँ हर कोई मनाये ।। जलायें……….. *दीपावली की सभी को अग्रिम बधाईयाँ *
निवेदक :- डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज

Author
डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज
Assistant professor -:Shanti Niketan (B.Ed.,M.Ed.,BTC) College ,Tehra,Agra मैं बिशेषकर हास्य , व्यंग्य ,हास्य-व्यंग्य,आध्यात्म ,समसामयिक चुनौती भरी समस्याओं आदि पर कवितायें , गीत , गजल, दोहे लघु -कथा , कहानियाँ आदि लिखता हूँ ।
Recommended Posts
आओ... !दिवाली मनाएँ..
आओ ! हम दिवाली मनाएँ चेहरे पे निर्मल हँसी सजाएँ संतोष धन बरसे हम पर सबके दुःखों का अँधेरा मिटाएँ । हम सब सुमंगल झालर... Read more
*स्वास्थ्य धन*
**स्वास्थ्य धन** * स्वास्थ्य यानी तन-और मन दोनों की सुदृणता * जहाँ *शारीरिक स्वास्थ्य के लिये पौष्टिक आहार ,व्यायाम ,योगा लाभदायक है। वैसे ही मन... Read more
देश के वीरों के लिए
मेरी कविता देश के वीरों को समर्पित है। ना धन चाहिए, ना रतन चाहिए। हमको, पूरा मेरा वतन चाहिए।। कट गये जिनके सर, इस वतन... Read more
सिर्फ और सिर्फ हम दोनों पर कविता
कितनी बार चाहा कि लिखूँ सिर्फ और सिर्फ हम दोनों पर ही कविता और खो जाएँ हम एक दूसरे के अन्तःकरण में इस तरह फिर... Read more