23.7k Members 49.9k Posts

कविता.. घर आजा बहना

कविता… घर आजा बहना
******************
सूनी कलाई है मेरी ,बहना सजाने आ
कुछ दिन से खेले नहीं, मुझ को हराने आ

मां कह रही है ,आएगी बेटी मेरी जरूर
एक बार राजा- रानी के किस्से सुनाने आ

एक साल गया ठीक से देखा नहीं तुझे
सुना पड़ा है माथा ,टीका लगाने आ

पापा भी कह रहे हैं, आएगी मेरी लाडो
सोई हुई उम्मीदें ,पापा की जगाने आ

सूने से आंगन में ,बस तेरी कमी है
सावन के गीत झूले पर, अब तो सुनाने आ

बच्चे भी उछल -कूद ये गा रहे गाना
आ बुआ मेरी आ, गोदी में उठाने आ

भाभी भी तेरी मायके, नहीं जा रही इस बार
भाभी के संग बातों की खिचड़ी पकाने आ

सबकी नजर तेरी ही ,राहों में लगी है
एक रात के लिए ही सही, अपने घराने आ

बिन तेरे कौन मेरी ,कलाई सजायेगा
लाडो मेरी बहना, इसे आकर सजाने आ।।
*********
प्रस्तुत रचना के मूल रचनाकार….
डॉ. नरेश “सागर”
इंटरनेशनल बेस्टीज साहित्य अवार्ड से सम्मानित
9897907490

2 Likes · 1 Comment · 117 Views
Naresh Sagar
Naresh Sagar
hapur
113 Posts · 9k Views
Hello! i am naresh sagar. I am an international writer.I am write my poetry in...