.
Skip to content

कविता क्या होती है…?

Rajdeep Singh Inda

Rajdeep Singh Inda

कविता

January 23, 2017

कविता क्या होती है…..?
इसे नहीँ पता,उसे नहीँ पता
मुझे नहीँ पता………..!
कहते हैँ कवि गण-
कविता होती है मर्मशील विचारोँ का शब्द पुँज,
कविता होती है साहित्य की पायल,
कविता होती है शब्दोँ का हार।
कहते हैँ शब्द शिल्पी-
कविता होती है मन की बात,
कविता होती है रस की धार,
कविता होती है शब्दोँ के उपवन की कुसुम कतार।
कहते हैँ साहित्यकार-
कविता होती है कवि की लेखनी की हँसी,
कविता होती है समाज का आह्वान,
कविता होती है पाठक का सुकुन।
मैँ कहता हुँ-
कविता होती है बेजुबानोँ की बोली,
कविता होती है अंधोँ की दृष्टी,
कविता होती है साहित्य की झनकार,
कविता मे समाया है सारा संसार ॥
-राजदीप सिँह इन्दा

Author
Recommended Posts
कविता
???? विश्व कविता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ???? माँ सरस्वती का आशीर्वाद है -कविता। कवि की आत्मा का नाद है —कविता। आलौकिक सृष्टि का सौंदर्य... Read more
**कविता**
---------क्या आप मेरी बात से सहमत हैं ? **कविता** ** * * एक अनपढ़ भी कविता रच सकता है क्योंकि कविता आत्मा की आवाज है... Read more
कवि कविता नहीं लिखता है
कवि कविता नहीं लिखता है कविता तो बन जाती है शब्द बाण जब टूट पढ़े तो तो भाषा बन जाती है कवि कविता नहीं लिखता... Read more
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
प्रख्यात आलोचक श्री रमेशचन्द्र मिश्र अपनी पुस्तक ‘पाश्चात्य समीक्षा सिद्धान्त’ में अपने निबन्ध ‘काव्य कला विषयक दृष्टि का विकास’ में पाश्चात्य विद्वानों का एक वैचारिक... Read more