Jan 12, 2017 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

***** कविता कोई लिखूं क्या मैं *****

एवज में इस खालीपन के
भूल चुका मैं अपना निजपन
समय के खाली हाथों में
रहने दो यह विरह वेदना
हृदय के बंद कपाटों में
रहने दो आग्रह प्रेमपूर्ण
शब्द कहां से लाऊंगा मैं
इन कौतुकपूर्ण बातों का मैं
वाक्य बना पाऊंगा कैसे
ढह जायेगी दीवार रहस्यमय
जब विरह सरिता बहाऊंगा मैं
ढुलकाओगे लवणयुक्त अश्रु
खारापन ही लाओगे तुम
याद मुझे दिलाते क्यों हो
रीतेपन का विरह -वियोग
कविता कोई लिखूं क्या मैं
एवज में इस सूनेपन के ।।

?मधुप बैरागी

62 Views
Copy link to share
भूरचन्द जयपाल
562 Posts · 28.4k Views
Follow 10 Followers
मैं भूरचन्द जयपाल 13.7.2017 स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर... View full profile
You may also like: