कविता :-- औरंगजेब इस सर जमीं का सबसे बड़ा नवाब था !!

कविता :– औरंगजेब इस सर जमीं का सबसे बड़ा नवाब था !!

पारदर्शिता का अनुयायी
जो सच का रखवाला था !
बाबर के कुल का चिराग
वो टोपी बुनने वाला था !!

जब से होश सम्हाला वो
खुद की मेहनत से खाया था !
राजकोष का पाई पाई
जन-जन में वर्शाया था !!

कौन यहाँ नायाब हुआ था
गद्दी में सतकर्मों से !
सत्ता तो सब नें छिनी थीं
मार धाड़ दुष्कर्मों से !!

ताजमहल की चकाचौंध में
जो अंधा था दासी में !
शाहजहाँ नें भी लुटवाया
राजपाठ अय्यासी में !!

बाप को बंदी करने में
ना सत्ता का कोई बहाना था !
घात लगाये दुश्मन से
बस अपना मुल्क बचाना था !!

गुनाह चाहे कैसा भी हो
गुनाह नहीँ तौला करते थे !
औरंगजेब के शाशन में तो
पत्थर भी बोला करते थे !!

सिकंदर भी जहां महान बना
वहाँ लाशों का सैलाब था !
औरंगजेब इस सर जमीं का
सबसे बड़ा नवाब था !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 1 Comment 0
Views 416

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share