Skip to content

कविता :– औरंगजेब इस सर जमीं का सबसे बड़ा नवाब था !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कविता

September 1, 2016

कविता :– औरंगजेब इस सर जमीं का सबसे बड़ा नवाब था !!

पारदर्शिता का अनुयायी
जो सच का रखवाला था !
बाबर के कुल का चिराग
वो टोपी बुनने वाला था !!

जब से होश सम्हाला वो
खुद की मेहनत से खाया था !
राजकोष का पाई पाई
जन-जन में वर्शाया था !!

कौन यहाँ नायाब हुआ था
गद्दी में सतकर्मों से !
सत्ता तो सब नें छिनी थीं
मार धाड़ दुष्कर्मों से !!

ताजमहल की चकाचौंध में
जो अंधा था दासी में !
शाहजहाँ नें भी लुटवाया
राजपाठ अय्यासी में !!

बाप को बंदी करने में
ना सत्ता का कोई बहाना था !
घात लगाये दुश्मन से
बस अपना मुल्क बचाना था !!

गुनाह चाहे कैसा भी हो
गुनाह नहीँ तौला करते थे !
औरंगजेब के शाशन में तो
पत्थर भी बोला करते थे !!

सिकंदर भी जहां महान बना
वहाँ लाशों का सैलाब था !
औरंगजेब इस सर जमीं का
सबसे बड़ा नवाब था !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
गीत :-- ये जुल्फें ये आँखें ये होठों की लाली !!
गीत :-- ये जुल्फें ये आँखें ये होठों की लाली !! ये जुल्फें ये आँखें ये होठों की लाली ! खुदा नें है बख्शा या... Read more
कवि कविता नहीं लिखता है
कवि कविता नहीं लिखता है कविता तो बन जाती है शब्द बाण जब टूट पढ़े तो तो भाषा बन जाती है कवि कविता नहीं लिखता... Read more
तो वो कविता है
शब्द कम हो और सिख बडी दे जाये,तो वो कविता है मोहब्बत के मारे शायर बना फिरता है वो शायरी प्रकृति से मिल जाए,तो वो... Read more
कविता का महत्व
जनम लिया तो अम्मा ने कविता से सहलाया था, जब जब रोया, तब तब उसने कविता से बहलाया था, कविता की ही दादी नानी ने... Read more