.
Skip to content

कविता :– इस झंडे का गुणगान करें !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कविता

August 12, 2016

!! इस झण्डे का गुणगान करें !!!!

सब प्रांगण मे एकत्र हुए
फिर देश फिरंगी मुक्त किये ,
कारगर थी उपयुक्त नीति
जो मिली हमे संयुक्त जीत !
अजय अभय है निर्भय काया
निर्मल दामन जैसी छाया ,
सहस्त्र भुजाओ का बल देता
रक्त कणों से रंग कर आया !

हम अपना एक पल कुर्वान करें !
इस झण्डे का गुणगान करें !!

जाति धर्म और रंग रूप
ले जाती एक व्यथित कूप ,
धूप आंच और दूसित छाव
पीडा देते जख्मी घाव !
सदभाव भरा अपना जीवन
सच्चाई पे कर दे अर्पण ,
प्रेम भाव और भाईचारा
दूर करेगा जग अन्धियारा !

भाव भरा इन्सान बने !
इस झण्डे का गुणगान करें !!

ऐसे अमिट ये कदम चिन्ह
मुश्किल थोडे भिन्न-भिन्न ,
मन मे जब अनुभूति हुई
मौत यहां भयभीत हुई !
गम्भीर बडी तेरी रुधिर बूंद
सिद्धत पे शीश झुका देती ,
उबल पडे यूं प्रवल रुधिर
इज्जत पे शीश कटा देती !

झण्डे पर अभिमान करें !
इस झण्डे का गुनगान करें !!

ऊंच-नीच की बात ना हो
रंग भेद पे घात ना हो ,
जात नहीं इस झण्डे की
वो गम की काली रात ना हो !
लाल हरे मे कैसा दंगा
सबका अपना एक तिरंगा ,
रंग भरें दिल मे उमंग का
पथिक बनें हम प्रवल प्रचण्डा !

आओ इसका सम्मान करें !
इस झण्डे का गुणगान करें !!

विकट विराट इरादे अपने
साझा करते मीठे सपने ,
संग चलने संग बढने वाले
अमिट अडिग हम अड़नें वाले !
रंग भरा महके गुलशन
ये अमन चैन का देता जीवन ,
दामन खुशियों से भरने वाले….
मेरे सात जन्म तुझ पर अर्पण !

आओ खुद का बलिदान करें !
झण्डे का गुणगान करें !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
@@@ रंग @@@
[[[[ रंग ]]]] वाह ! रंग भी क्या शब्द है, क्या भाव है, क्या अर्थ है || बिना इस रंग के संसार में भूमि-नभ-जीवन व्यर्थ... Read more
कविता
???? विश्व कविता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ???? माँ सरस्वती का आशीर्वाद है -कविता। कवि की आत्मा का नाद है —कविता। आलौकिक सृष्टि का सौंदर्य... Read more
संदेश देती पुस्तकः नहीं तुम्हारी तरह
संदेश देती पुस्तकः नहीं तुम्हारी तरह पुस्तक का नामः नहीं तुम्हारी तरह कविः रमेश जलोनिया प्रकाशकः नवभारत प्रकाश डी-626, गली न. 1, निकट ललिता मंदिर... Read more
कविता क्या होती है...?
कविता क्या होती है.....? इसे नहीँ पता,उसे नहीँ पता मुझे नहीँ पता...........! कहते हैँ कवि गण- कविता होती है मर्मशील विचारोँ का शब्द पुँज, कविता... Read more