कल जो बीती रात एक नया ख्वाब पल गया ....

कल जो बीती रात एक नया ख्वाब पल गया,
मन का एक हिस्सा किसी के नाम हो गया।
इजहार होठो से न हुआ लेकिन,
आँखों से आँखे मिली और अपना काम हो गया।(अवनीश कुमार)

Like Comment 0
Views 18

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share