कल के लिए आज अच्छा करो

एक सेठ जी ने अपने मैनेजर को इतना डाटा— की मैनेजर को बहुत गुस्सा आया पर सेठ जी को कुछ बोल ना सका–

– वह अपना गुस्सा किस पर निकाले– वो गया सीधा अपने कंपनी स्टाफ के पास और सारा गुस्सा कर्मचारियों पर निकाल दिया।

– अब कर्मचारी किस पर अपना गुस्सा निकाले–?

तो जाते-जाते अपने गेट वॉचमैन पर उतारते गए-

– अब वॉचमैन किस पर निकाला अपना गुस्सा-?

– तो वह घर गया और अपनी बीवी को डांटने लगा बिना किसी बात पर।

– वो भी उठी और अपने बच्चे की पीठ पर 2 धमाक धमाक लगा दिया–

— सारा दिन tv देखता रहता है काम कुछ करता नहीं है–

– अब बच्चा घर से गुस्से से निकला, और सड़क पर सो रहे कुत्ते को पत्थर दे मारा,

— कुत्ता हड़बड़ाकर भागा और सोचने लगा कि इसका मैंने क्या बिगाड़ा-?

– और गुस्से में उस कुत्ते ने एक आदमी को काट खाया-

— और कुत्ते ने जिसे काटा वह आदमी कौन था-?

— वही सेठ जी थे, जिन्होंने अपने मैनेजर को डांटा था।

– सेठ जी जब तक जिए तब तक यही सोचते रहे कि उस कुत्ते ने आखिर मुझे क्यों काटा-?

*लेकिन बीज किसने बोया* ?

— आया कुछ समझ में– *कर्म के फल पीछा नहीं छोड़ते बाबा*– जाने अनजाने में कितने लोग हमारे व्यवहार से त्रस्त होते हैं, परेशान होते हैं और कितने का तो नुकसान भी होता है।

— पर हमें तो उसका अंदाजा भी नहीं होता, क्योंकि हम तो अपनी मस्ती में ही मस्त है।

*पर प्रकृति सब देखती है और उसका फल फिर किसी और के निमित्त से हमें मिलता है, और हमें लगता है कि लोग हमें बेवजह ही परेशान करते हैं।

*कल के लिए*
सबसे अच्छी तैयारी
यही है कि
*आज अच्छा करो. . .*

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 9

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share