.
Skip to content

कल की किशोरी आज की नारी

दिनेश एल०

दिनेश एल० "जैहिंद"

कविता

April 6, 2017

कल की किशोरी
आज की नारी

मैं हूँ बच्ची, कल की किशोरी,
भविष्य की हूँ मैं समस्त नारी ||
मैं लक्ष्मी, मैं उमा, मैं हूँ शारदा,
जानो ये दुनिया मैंने ही सँवारी ||

सतरंगे लक्ष्य लेके मैंने जग को,
इंद्रधनुषी सप्त रंग से सजाए हैं ||
दिनकर की तेज़ लेके मैंने जग,
को जगमग-जगमग चमकाए हैं ||

मुझमें है गर चाँद-सी शीतलता,
तो देने को है अँधेरे में उजाला ||
मुझ में है गर गौमाँ-सी ममता,
तो देने को है घोर शर्द में ज्वाला ||

अनसूइया,गार्गी, सीता,सावित्री
की आत्मा मुझ में ही बसती है ||
लक्ष्मी बाई-सरोजनी-इंदरा गाँधी
की छाया मुझ पर ही उगती है ||

मुझमें देखो हैं कस्तुरबा गाँधी,
देखो मुझमें बैठी भक्त शारदा ||
मैं ही हूँ स्वर साम्राज्ञी लता मैया,
मुझमें है छुपी सुनीता चावला ||

मैं वीरांगना, मैं विदुषी, मैं सर्वज्ञा,
मैं सबला हूँ मेरी ओजस्वी कहानी ||
हाथों में है कटार, आँखों में अंगारे,
दिल में पाषाण, चपलता तूफ़ानी ||

मैं धरती, मैं सृष्टि, मैं हूँ प्रकृति,
मैं चाहूँ बालक को सज्ञान बना दूँ ||
मैं जननी, मैं धरणी, मैं निर्मात्री,
धरूँ लक्ष्य पुरूष को महान बना दूँ ||

मैं पुत्री, मैं भार्या, मैं ही हूँ माता,
चौतरफ़ा जग में है मेरा जलवा ||
मेरे ही इर्द-गिर्द सारा जग घूमता,
मेरी ही तूती चलती यश की हवा ||

नारी शक्ति, नारी देवी नारी नर-
नारी व जग की होती महतारी ||
प्रेम, करूणा, सम्मान, सेवा की
होती है जग में सच्ची अधिकारी ||

_____________________
दिनेश एल० “जैहिंद”
24. 01. 2017

Author
दिनेश एल०
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का... Read more
Recommended Posts
इंसानियत इंसान से पैदा होती है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी शोहरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का खुला मुख, मनका भी हूँ... धागा भी... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more