कल आज

कल-आज
“””””””””‘””'”
चलो अच्छा है
वे भी मुस्कराये लगे हैं,
उनकी कल्पना के राम
अब साकार बन
आने लगे हैं।
हमारे साथ वे भी
अब रामधुन
गाने लगे हैं।
👉सुधीर श्रीवास्तव

Like Comment 2
Views 16

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share