कल्पना

अद्भुत है ये कल्पना ,ये सपनों की खान।
कभी कल्पना के बिना ,भड़ते नहीं उड़ान।।
–वेधा सिंह

Like Comment 0
Views 7

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share