Skip to content

कल्पतरु वाणी…

Ranjeet GHOSI

Ranjeet GHOSI

अन्य

November 13, 2017

कल्पतरु की जीवन गाथा
कल्पतरु रत्नों का भ्राता!
कल्पतरु निकला मंथन से
कल्पतरु जुड़ा जीवन से!!

कल्पतरु है एक वरदान
देता जो हमें जीवन दान!
कल्पतरु की पूजन करलो
कल्पतरु की जय जय करलो!!

कल्पतरु शिक्षा भी देता
बिना लिए ही सब कुछ देता!
कल्पतरु करे कल्याण
कलपतरू है बड़ा महान!!

कल्पतरु है जीवन दाता
कल्पतरु है भाग्य विधाता!
कल्पतरु सांसो का राजा
कल्पतरु है सबको भाता!!

कल्पतरु है जीवन ज्योति
कल्पतरु वृक्षों का मोती!
कल्पतरु ऋषियों ने जाना
वेद पुराण ने है बखाना!!

कल्पतरु की सुंदर काया
कल्प तरु की बेहतर छाया!
कल्पतरु सांसो की शुद्धि
कलपतरू से बढ़ती बुद्धि!!

कल्पतरु सबको है कहना
कल्पतरु हर घर का गहना!
कल्पतरु से है हरियाली
कल्पतरु कि करें रखवाली!!

कल्पतरु अमृत के समान
कल्पतरु रोगों का निदान!
जन-जन को हो इसका ज्ञान
कल्पतरु बड़ा अभियान!!

कल्पतरु सांसो की लड़ियां
कल्पतरु है सबसे बढ़ियां!
कल्पतरु का बस एक सपना
कल्पतरु सांसो का गहना!!

कल्पतरु है ऐसा मंचन
जीवन करता है जो कंचन!
कल्पतरु का विस्तार करा दो
जन जन तक इसे पहुंचा दो!!

कल्पतरु वसुधा का गहना
मिलजुल कर हमें है सजाना!
कल्पतरु ऐसा है मिशन
कल्पतरु बड़ाये है मिलन!!

कल्पतरु से खुशी विखेरें
कल्पतरु से खुशी बटोंरे !!
कल्पतरु है सबसे अच्छा
कल्पतरु प्राणों की रक्षा!!

कल्पतरु का सुमिरन करलो
कल्पतरु नैनन में भरलो!!
निवेदन मेरा करो स्वीकार
कल्पतरु से बांटो प्यार!!

कल्पतरु का येअभियान
वृक्ष लगाना यज्ञ समान!
कल्पतरु का दान कर लो
जीवन अपना महान करलो!!

कल्पतरु कि एे अमृतवाणी
कल्पतरु की कथा पुराणी!
चलाया जिन्होंने एेअभियान
बढ़ेगा उनका हरदम मान!!

रंजीत घोसी

Author
Ranjeet GHOSI
PTI B. A. B.P.Ed. Gotegoan
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more