.
Skip to content

कलाम साहब को समर्पित

guru saxena

guru saxena

घनाक्षरी

July 28, 2017

सादगी सहजता सरलता से भरे हुए
मानवतावादी गुण धर्म धारे धाम थे।
थे महान इंसान विज्ञान ज्ञान लिए,
भारत की प्रगति के चढ़ते मुकाम थे।
चरैवेति चरैवेति सूत्र अपनाए हुए,
सदा कर्म रत खास होकर भी आम थे।
उनके आगे ना कोई उपमा ठहरती है,
अब्दुल कलाम जैसे अब्दुल कलाम थे।

गुरु सक्सेना नरसिंहपुर मध्य प्रदेश

Author
guru saxena
Recommended Posts
ञदाांजलि
दिल में गीता मुँह पर कुरान सुना देना, हर मस्जिद पर गीता की लौ जला देना, अगर देखना हो भारत को सोने की चिड़िया का... Read more
आँखों का तारा (ए.पी.जे. अबदुल कलाम)
ना वो सिक्ख था ना ईसाई था ना हिन्दू था ना मुसलमान था ना वो बच्चा था, ना वो जवान था वो तो बस एक... Read more
बाल दिवस पर चाचाजी का संदेश
बाल दिवस पर चाचाजी का संदेश ----- शिक्षा का त्योहार मनाया, गुरुओं का सम्मान बढ़ाया, परीक्षा मे हर प्रथम आओगे , गुरूओ का जब सम्मान... Read more
जुबाँ पर जो है दिल में वह नाम लिखती हूँ
जुबां पर जो है दिल में वह नाम लिखती हूं हो जाए मैहर जिंदगी तमाम लिखती हूं निकलते है मेरे दिल से ही जज़्बात सभी... Read more