.
Skip to content

कलयुगी भक्ति में शक्ति

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

कविता

February 15, 2017

कलयुगी भक्ति में देखि शक्ति अपार, तभी तो बन बैठे वो महान !
कितने मुखड़े छिपे इन चेहरो में, इससे विचलित है स्वंय भगवान !!

लूट खसोट कर अमीर बन गए वो
जो दिन-रात करते करतूते काली !
मंदिर में बैठकर करते पूजा आरती
दर पे बैठे भिखारी को बकते गाली !!
कलयुगी भक्ति में देखि शक्ति अपार, तभी तो बन बैठे वो महान !
कितने मुखड़े छिपे इन चेहरो में, इससे विचलित है स्वंय भगवान !!

निर्धन को वो श्वान सा दुत्कारे
धनवानों से करते है प्रेम अपार !
जुल्म और अन्याय उनका धर्म
बन बैठे है वही धर्म के ठेकेदार !!
कलयुगी भक्ति में देखि शक्ति अपार, तभी तो बन बैठे वो महान !
कितने मुखड़े छिपे इन चेहरो में, इससे विचलित है स्वंय भगवान !!

प्रजातन्त्र के मुखोटे छुपा राजतंत्र
नित नित जनमानष को रहा लूट !
जात -धर्म में सबको बाँट रहा जो
उनको ही अंधे भक्त दे रहे सैल्यूट !!
कलयुगी भक्ति में देखि शक्ति अपार, तभी तो बन बैठे वो महान !
कितने मुखड़े छिपे इन चेहरो में, इससे विचलित है स्वंय भगवान !!

नारी शक्ति के जो देते है नारे
कर रहे वही नारी का अपमान !
विलायती जीवन स्वयं है जीते
स्वदेशी का वो बाँट रहे है ज्ञान !!
कलयुगी भक्ति में देखि शक्ति अपार, तभी तो बन बैठे वो महान !
कितने मुखड़े छिपे इन चेहरो में, इससे विचलित है स्वंय भगवान !!

जो जितना अधिक ढोंगी पाखंडी
जनता में उसका बढ़ता गुणगान !
जो सत्य कर्म की राह अपनायेगा
उसकी स्वंय परीक्षा लेते भगवान !!
कलयुगी भक्ति में देखि शक्ति अपार, तभी तो बन बैठे वो महान !
कितने मुखड़े छिपे इन चेहरो में, इससे विचलित है स्वंय भगवान !!

कितना भो कोई जाल रचे
निर्णय सबका यही हो जाना है !
अपने अच्छे बुरे कर्मो का फल
हर इंसान को यहीं भुगत कर जाना है !!
कितनी भी दिखा ले शक्ति कलयुग में, वो चाहे बने कितने महान !
इनके चेहरे को उजागर करके, बेनकाब कर जायंगे स्वयं भगवान !!
!
!
!
रचनाकार ::— डी के निवातिया

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
कभी माँ बनके मुझे प्यार दिया
कभी माँ बन के मुझे प्यार दिया कभी बेटी बन सत्कार किया नन्ही .. मुन्ही ..गुड़ीया ..बनकर कभी खुशीयाँ हमें अपार दिया कभी बहन बनी... Read more
मेरी मुस्कान
मेरी जान है वो मेरी मुस्कान है वो मेरे जीवन में सजी महान है वो भगवान ने दिया वरदान है वो कभी ना छोड़ना साथ... Read more
शब्द -आराधना करके बनता है महान मानव इससे ही सुनता है भाव भगवान ये कमाल है शब्दों की शक्ति का जिससे बढ़ती है न सिर्फ़... Read more
&&& प्रभु तेरी लीला देखि &&&
ऊपर वाले न मैने कभी तेरी सूरत देखि न ही वो तेरी सुहानी सी सीरत देखि बस तेरे रूप के न जाने कितने देखे यहाँ... Read more