कलम

कलम लिख दे,गीत गाए भारती|
आम-जन दौड़े-उतारे आरती|
दिव्यता देती, मनुज को प्रीति कब?
जब निशा, ज्ञानग्नि से जल हारती|

नर, तभी यश-मान का शुभ भाल है |
सजगता के रूप की सुर-ताल है |
सीख -सद्आलोक विकसित भानु-सम
चमक जाए, समझ विजयी माल है |
…………………………………………………….

2013 में प्रकाशित मेरी कृति “जागा हिंदुस्तान चाहिए”
ISBN : 978-93-82340-13-3 के 02 मुक्तक

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता
25-04-2017

Like 1 Comment 1
Views 197

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share