Jul 1, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

कलम घिसाई 3 आज मै ऊँचे आसन पर

आज मैं ऊँचे आसन पर मसनद के सहारे बैठा हूँ।
देख जमीन पर लोगो को खूब घमन्ड में ऐंठा हूँ।
*
इस आसन पर चढ़ने में पर कितना जियादा गिरा हूँ में।
पता नही किस किस के दर पर उनके चरणों में लेटा हूँ।
*
मालूम मुझे था ज़मीरगीरी बेश कीमती वस्तु है ।
बेच उसी को आजू मैं बन बैठा कुबेर का बेटा हूँ।
*
सच का गहना भी कभी मेरे इस तन को नही ढक पाया।
असत सहारे अंग अंग को मखमल से आज लपेटा हूँ।
*
रहा अहिंसक जब तलक मैं बहुत ही सताया लोगों ने।
पर छोडे अहिंसा को बन बैठा मैं नकटो में जेठा हूँ।
*
चोरि को पाप समझता था तब फांकानशी भी करता था।
जब माना चोरि खोट नही तो खाता मिठाई पेठा हूँ।

***********मधु गौतम
9414764891

11 Views
Copy link to share
मधुसूदन गौतम
मधुसूदन गौतम
202 Posts · 9.8k Views
Follow 5 Followers
मै कविता गीत कहानी मुक्तक आदि लिखता हूँ। पर मुझे सेटल्ड नियमो से अलग हटकर... View full profile
You may also like: