Jun 29, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

कलम घिसाई एक मुक्तक 32 मात्रिक भार की

आज मैं ऊँचे आसन पर मसनद के सहारे बैठा हूँ।

देख जमीन पर लोगो को खूब घमन्ड में ऐंठा हूँ।
इस आसन पर चढ़ने में पर कितना जियादा गिरा हूँ में।
पता नही किस किस के दर पर उनके चरणों में लेटा हूँ।

मधु गौतम 9414764891

40 Views
Copy link to share
मधुसूदन गौतम
202 Posts · 12.6k Views
Follow 5 Followers
मै कविता गीत कहानी मुक्तक आदि लिखता हूँ। पर मुझे सेटल्ड नियमो से अलग हटकर... View full profile
You may also like: