Aug 30, 2016 · कविता
Reading time: 2 minutes

कलम का कमाल

कलम का कमाल

क्या कहु इस कलम को जाने ये क्या कर जाए,
हाथ लगी जैसी संगत वैसा कमाल कर दिखाए II

जब आई हाथ में नन्हे मुन्ने के खूब रंग सजाये
अजब गजब लकीरो में अपनी सौम्यता बिखराये II

जब-जब रही हाथ गुरु के कुछ नया सबक सिखाये
कर अपना जीवन अर्पण नवयुग का निर्माण कराये II

देखो ये सुन्दर तस्वीर,किन हाथो ने करतब रचाये
कैसा सुन्दर घरोंदा बने जब वास्तुकार नक्शा बनाये II

नौकरशाह के जब हाथ में हो ये खूब नाच नचाये
आगे पीछे दौड़े दुनिया फिर भी खून के आंसू रुलाये II

छुए हाथ जब न्यायाधिपति का जीवन सफल बनाये
कर इन्साफ सच झूठ का दुनिया को न्याय दिलाये II

करती कभी ऐसा गजब भी देख तन-मन थर्राए
कसूरवार को बरी करे और बेकसूर शूली चढ़ जाए II

कह सके न जो जुबान से वो ये कर दिखलाती है
देखो कैसे मजनू को ये शायर का ख़िताब दिलाती है II

चलती है जब ये अपनी लय में प्रेम गीत बन जाता है
खट्टी मीठी यादे संजोकर दुनिया में इतिहास बन जाता है II

कभी इनायत कभी क़यामत बड़े तजुर्बे सिखाती है
पल में रुला दे पल में हँसा दे ऐसे वचन बनाती है II

नेता जी की जुबान जब फिसले शोधन कलम से कराये
करते हर पल झूठे वादे फिर भी कानून जग को सिखाये II

कलम बनी हाथ की कठपुतली,जाने कैसे कैसे लोग नचाये
जिसने तुकझो दिल से पूजा कलम का सिपाही कहलाये II

क्या करू बखान अपनी जुबान से अजब तेरी कहानी है
जन्म मरण की एक तू ही साक्षी, बिन तेरे चले न जिंदगानी है

>>>>> डी. के. निवातियाँ <<<<<<<<<<

2 Comments · 39 Views
Copy link to share
डी. के. निवातिया
235 Posts · 49.6k Views
Follow 12 Followers
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ ,... View full profile
You may also like: