.
Skip to content

“कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।” ——————–

Dr Purnima Rai

Dr Purnima Rai

गज़ल/गीतिका

November 20, 2016

नई दिल्ली में चल रहे
69वें निरंकारी संत समागम( 19-20-21नवंबर)में “सत्गुरु बाबा हरदेव सिंह जी महाराज” को समर्पित कवि दरबार में शीर्षक

“कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।” ———————मेरी रचना———–

हँसमुख चेहरा,रूप नूरानी,प्यार भरी तेरी मुस्कानों का।
कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।———–

बिन तेरे अब मेरे सत्गुरु ,मेरे इस जीवन का मोल नहीं;
बिना रूह के प्राण अधूरे,तुम संग सजे मन अरमानों का।
कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।———-

रोम-रोम पुलकित हर जन का ,प्रेम स्नेह की धन- दौलत बख्शी;
नहीं जगत में कोई अपना ,बिन तेरे हम जैसे बेगानों का।।
कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।——————

माटी की काया थी हमरी ,कंचन पारस तुम थे सत्गुरु;
भवसागर से पार उतारा,अनजान सफर हम अनजानों का ।।
कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।——————–

शरण “पूर्णिमा” सत्गुरु तेरी,अपने बचपन में ही आई है;
अपार अनंत असीम कृपा और आँगन सजा वरदानों का ।।
कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।——————–

…डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर(पंजाब)
20/11/16

Author
Dr Purnima Rai
मैं मूलत:एक शिक्षिका हूँ।लेखिका ,संपादिका ,समीक्षक भूमिका निभाकर साहित्य सृजन की ओर अग्रसर हूँ मेरी स्पर्धा किसी से नहीं , स्वत:अपने आपसे है।स्वयं को बेहतर से बेहतरीन बनाना मेरे साहित्यिक जीवन का लक्ष्य है।.. शब्द अथाह सागर हैं और भाव... Read more
Recommended Posts
तेरे चेहरे पे जो निखार है
तेरे चेहरे पे जो निखार है-२ , ये कह रहा है तुझको प्यार है। तेरे चेहरे पे जो निखार है.......... तेरी आँखों में जो चमक... Read more
==== तुझे  अर्पण ====
सुर हैं मेरे पर गीत तेरे हैं सुर हैं मेरे पर गीत तेरे हैं भगवन आप ही मीत मेरे हैं। वाणी ये मेरी गुन तेरे... Read more
फेरा
कुछ नही जाना साथ मे मेरे न पैसा न बंगले मेरे न काया न बंदे मेरे माया के सब बंधन तेरे सहारे जीते हैं सब... Read more
??मुझे मार गए जानम ये तेरे बहाने??
दिल को तड़फाते हैं,ये तेरे बहाने। मुझे मार गए जानम,ये तेरे बहाने।। मैंने कहा तुमसे,घर मेरे आ जाना। ना-ना करने लगे पर,ये तेरे बहाने।। मैंने... Read more