.
Skip to content

करो मत वार नयनों से

बबीता अग्रवाल #कँवल

बबीता अग्रवाल #कँवल

गज़ल/गीतिका

December 21, 2016

■■■■■■■★ ग़ज़ल ★■■■■■■■

करो मत वार नयनों से कि दिल उल्फ़त का मारा है
ये पहले भी तुम्हारा था ये दिल अब भी तुम्हारा है

मेरी आँखों का है तू नूर , तू सबका दुलारा है
तेरी हर बात प्यारी है तेरा अंदाज़ प्यारा है

तुम्हारी याद में खोई तुम्हीं को ढूंढती हूँ मैं
भटकती हूँ ख्यालों में हुआ दिल बेसहारा है

सजाकर आज बिटिया को निहारा देर तक हमने
लगा धरती पे ज्यों हमने करिश्में को उतारा है

तेरी यादों के बन्धन में बंधी हर वक़्त मैं खुश हूँ
तुझी में खो गई हूँ मैं तुम्हारा ही सहारा है

नज़र का व्याकरण पढ़ लो नज़र की भी जुबां समझो
नज़र से ही कँवल ने कर दिया तुमको इशारा है

बबीता अग्रवाल कँवल
20/12/2016

Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)
Recommended Posts
तू मुश्किलों का ख़याल मत कर
ग़ज़ल ----------- यहाँ पे कोई बवाल मत कर तू बेवजह के सवाल मत कर अभी ख़िज़ां में बहार आई बुरा तू इसका ये हाल मत... Read more
तू यूँ कलंकित ये भाल मत कर
ग़ज़ल ----------- यहाँ पे कोई बवाल मत कर तू बेवजह के सवाल मत कर अभी ख़िज़ां में बहार आई बुरा तू इसका ये हाल मत... Read more
गज़ल
मेरे रहबर, मेरे मेहरम, सनम मुझ पर अहसान करो, मैं तूफानों का पाला हूँ, न मंजिल तुम आसान करो। जमीं हूँ मैं मुहब्बत की, न... Read more
यूँ रूठो ना……………..इतराया ना करो |गीत| “मनोज कुमार”
यूँ रूठो ना करो, यूँ गुस्सा ना करो इतना ना सताओ तुम, इतराया ना करो यूँ रूठो ना……………………………………………..इतराया ना करो हम प्यार तुम्हें जां प्यार... Read more