.
Skip to content

‘करीब आ जाओ’

Rajesh Singh

Rajesh Singh

गज़ल/गीतिका

April 18, 2017

गर जानना है मुझको, करीब आ जाओ.
पहचानना है मुझको, करीब आ जाओ,
सिर्फ दुआ सलाम से फितरत नहीं जानी,
दिल्लगी की है तो फिर हाले दिल सुना जाओ,
किनारे बैठ कर दरिया की गहराई नहीं मिलती
जो सागर से मुहब्बत है,तो सागर ही नजर आओ,
हर सांस तेरे नाम हो, तेरी याद में हर सांस हो,
बसकर धडकनों में तुम मेरे दिल में समा जाओ,
मंदिर मस्जिद से तो इबादत का भरम होता है,
फना हो जाओ मुझमें तुम ही तुम नजर आओ

Author
Rajesh Singh
Recommended Posts
सनम तुम आ जाओ................|गीत|   “मनोज कुमार”
सनम तुम आ जाओ सजन तुम आ जाओ...........२ अभी तुम तोड़ के बंदिश, सभी तुम छोड़ के रंजिश सनम तुम आ जाओ सजन तुम आ... Read more
आ जाओ .............आ जाओ |गीत| “मनोज कुमार”
आ जाओ आ जाओ आ जाओ आ जाओ सनम तुम आ जाओ हमको तो तुमसे तुम्हीं से है प्यार छोड़ के ना जाओ तुम आ... Read more
ग़ज़ल
ग़ज़ल ******** हमारे इश्क़ के सदके ,ये काम कर जाओ हमारे दिल में नहीं , रूह में उतर जाओ ********** हमें भी प्यार की खुशबू... Read more
भोले आ जाओ भोले आ जाओ.……|भजन| “मनोज कुमार”
भोले आ जाओ भोले आ जाओ.........................४ भोले कर दो बेड़ा पार खुशियों की करो बरसात ...................२ हम बालक तेरे है शम्भू हमपे दया करो नटराज......................२... Read more